‘सुर बरखा’ में गूँजी स्वर लहरियाँ

70 Views

सोमवार शाम दुआ सभागार में संगीत निशा आयोजित

इन्दौर। संगीत प्रेमियों के शहर इन्दौर के प्रीतमलाल दुआ सभागृह में सोमवार शाम राजेश म्यूजिक एकेडमी द्वारा संगीत की साँझ सुर बरखा का आयोजन किया जिसे बारिश में भीगते शहर के बावजूद संगीत के सुरों की बरखा से संगीत प्रेमियों ने खुद को तृप्त पाया।


गायिकाओं में राज राजेश्वरी, शिवानी दशोरे, मनीषा यादव, शबनम वर्मा, मोनिका व्यास, पिंकी श्रीवास्तव, सुमित्रा जोशी ने सात सुरों की मेडले से जो शुरुआत की।
पिंकी श्रीवास्तव ने ‘हमें तुमसे प्यार कितना यह हम नहीं जानते’ गाया फिर राज राजेश्वरी ने ‘मिलो ना तुम तो हम घबराए’ और ‘ चलो सजना जहां तक घटा चले ‘ गाने में श्रोताओं की तालियों का महोत्सव बनाया। शिवानी दशोरे ने ‘गीत तेरे साज का, तेरी ही आवाज हूं’ और ‘ठंडी हवा छू गई’ बखूबी गाया। मोनिका व्यास ने’ कभी कभी मेरे दिल में खयाल आता है’ गाने के बाद धूम धड़ाका वाला गाना ‘ये मेरा दिल प्यार का दीवाना’ गाया।


शबनम वर्मा ने ‘वो हसीन दर्द दे दो जिसे मैं गले लगा लूं’ और सुमित्रा ने ‘अँखियों के झरोखों से’ और ‘तुम मुझे यूँ भुला ना पाओगे’ गाकर तालियां बटोरी। सातवीं सिंगर मनीषा यादव ने ‘आगे भी जाने ना तू’ खूब अच्छे से गाया।
राजेश म्यूजिक एकेडमी के इस आयोजन में संगीत संयोजन प्रशांत चौधरी गिटार तबले पर विजय राव तबला, ऑक्टोपड अमित शर्मा व कीपेड पर हर्षद शेगाँवकर रहे। और संचालन प्रीति दुबे ने किया।


प्रीति दुबे का संगीत कार्यक्रम में संचालन वैसे तो नवल है किन्तु सोमवार की शाम यह बिल्कुल महसूस नहीं हो रहा था कि संचालन का नवल स्वर है प्रीति दुबे, जिस तरह प्रीति दुबे ने लता जी और अन्य क़िस्सागोई भी संचालन में करके गायन के रंग में गायिकाओं के साथ माहौल बनाकर श्रोताओं को बांधे रखा वह अद्भुत रहा। संगीत की एक उम्दा शाम शहर को समर्पित रही।

Translate »