नवरस काव्य उत्सव सम्पन्न, श्री पटेरिया स्वर्णाक्षर सम्मान से सम्मानित

99 Views

युवाओं की ऐसी पौध ही कवि सम्मेलन का भविष्य- डॉ. दवे

प्रतियोगिता में रुद्र प्रथम, सक्षम द्वितीय और मनीष रहे तृतीय।

इन्दौर। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के प्रकल्प नवरस का काव्य उत्सव रविवार को इंदौर प्रेस क्लब के राजेन्द्र माथुर सभागार में आयोजित हुआ, जिसमें मुख्य अतिथि साहित्य अकादमी के निदेशक डॉ. विकास दवे व अध्यक्षता कवि प्रकाश पटेरिया ने की एवं विशेष अतिथि सुनीता दवे व एकाग्र शर्मा रहे।
काव्य उत्सव के दौरान मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा कवि सम्मेलन मंचों पर चार दशक से अधिक काव्य पाठ करने वाले वरिष्ठ कवि प्रकाश पटेरिया को स्वर्णाक्षर सम्मान से सम्मानित किया गया।

नवरस काव्य उत्सव में लगभग 30 प्रतिभागियों ने सहभागिता की, जिसमें प्रथम स्थान पर रुद्र प्रताप रुद्र, रीवा, द्वितीय स्थान पर सक्षम राहुल, देवास व तृतीय स्थान पर मनीष पाटीदार मन, राऊ रहे।

आयोजन के मुख्य अतिथि डॉ. विकास दवे ने अपने संबोधन में युवाओं को सुखद परम्परा की पुनः शुरुआत की बधाई देते हुए कहा कि ‘जिस तरह वर्तमान में यह युवा चुटकुले, फूहड़ हास्य के इतर रचनापाठ कर रहे हैं, निश्चित तौर पर हिन्दी कवि सम्मेलनों का भविष्य आशान्वित और सुखद है। यही युवाओं की नई पौध हिन्दी कवि सम्मेलनों का भविष्य है।’

नवरस के संयोजक कवि गौरव साक्षी ने बताया कि ‘उनकी संकल्पना का आकार लेना सुखद है। युवाओं का यह परिवार हमें ऊर्जावान बनाता है।’

काव्य उत्सव में सक्षम राहुल, देवास, दामिनी ठाकुर, इंदौर, शशांक मिश्रा अंकुर, सीधी, मनीष पाटीदार मन, राऊ, रुद्र प्रताप रूद्र, इंदौर, विजय शुक्ला, इंदौर, समर्थ भावसार, उज्जैन, चंद्र भूषण बारोड़, उज्जैन, निहारिका प्रजापत, इंदौर, आशीष चौहान, रायसेन, स्वाति सनोदिया पंखुड़ी, सिवनी, सोमी खेमसरा, खाचरोद, सुनील रघुवंशी सिपाही, इंदौर, प्रीति दुबे, इंदौर, दामोदर विरमाल मन, महू, वाणी, अमित जोशी, इंदौर, अनिल ओझा, इंदौर, शिवानी उदेनिया ने सहभागिता की।
नवरस का संचालन कवि अक्षत व्यास ने किया एवं आभार संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ ने माना।

काव्य उत्सव दल से अवनीश पाठक सूर्य, अमित अभ्यंकर, विघ्नेश दवे, लव यादव, राहुल शर्मा, आशीष पँवार, आशीष थापक सरोजेय, कल्पेश वाघ व सुषमा व्यास राजनिधि ने भी काव्य पाठ किया।

आयोजन में नितेश गुप्ता, नीना जोशी, शिखा जैन, प्रकाशचन्द्र ओस्तवाल, मुकेश तिवारी सहित कई साहित्यानुरागी उपस्थित रहे।

Translate »