8 टन क्षमता वाले रोड से निकल रहे है 40 टन के रेत डम्फर प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़के हो रही क्षतिग्रस्त

47 Views


खबर हलचल न्यूज टिमरनी से संंदीप अग्रवाल

हरदा(मध्यप्रदेश) गोंदा गांव के पास दूसरे जिले के पापन गांव व गोंदा गांव के बीच बहने वाली नदी में अवैध रास्ते से होकर गोंदागांव के निवासियों के आवागमन के लिए बनी प्रधानमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत बनी सड़को से खुलेआम नियमो की धज्जियां उड़ा कर रेत का परिवहन कर रहे डंफरो पर प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा कोई कार्यवाही न करने से ग्रामीणों व आम जनता में प्रशासन की छवि धूमिल हो रही है जिस पर न तो कोई विभाग कार्यवाही करना चाह रहा है और न ही ठीक से मीडिया के सवालों के जवाब दे रहे है। गौरतलब है कि पापन गांव व गोंदागांव के बीच से निकल कर बहने वाली नदी में गर्मियों में पानी कम हो जाता है और दोनों जिले की सीमा के बीच बहने वाली इस नदी पर इसपार व उसपार के गाँव के लोगो को एक दूसरे के गाँव मिलने जुलने व अन्य कामो के लिए ग्रामीणों के द्वारा छोटा सा रास्ता बना लिया जाता है लेकिन अब इस रास्ते पर रेत के कारोबारीयो की नजर पड़ गई है और अपनी सुविधा के लिए दूसरे जिले के रेत ठेकेदार के द्वारा उस छोटे से रास्ते पर से रेत से भरे भारी डम्फर निकालकर गांव की प्रधानमंत्री योजना के अंतर्गत बनी सड़कों के माध्यम से महानगरों में रेत के भारी वजन वाले डंफरो को निकाला जा रहा है जिससे कि ग्रामीणों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए बनाई गई सड़के जल्द ही दम तोड़ कर क्षतिग्रस्त हो जाएंगी और फिर से ग्रामीणों को कच्चें पक्के रास्तो से गावो में आवागमन करना पड़ेगा ग्रामीणों के अनुसार प्रधानमंत्री योजना के तहत तजपुरा छिपानेर मार्ग से निकलकर गोंदा गांव की ओर जो सड़क प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के अंतर्गत बनी है उस सड़क की क्षमता आठ टन के वजन वाले वाहनों के हिसाब से बनी है लेकिन रेत से भरे डम्फर चालीस से पचास टन के होते है जिसके कारण जल्द ही यह रोड़ क्षतिग्रस्त हो जावेगा ओर ग्रामीणों सहित आसपास क्षेत्र के जो लोग गोंदा गांव मठ व मा नर्मदा के दर्शन करने जाते है उनको भी काफी कठिनाई यो का सामना करके जाना पड़ेगा ग्रामीणों के अनुसार प्रतिदिन करीब सौ वाहन इस रास्ते से होकर निकल रहे है रात में भी यही सिलसिला चलते रहता है जबकि सूत्रों के अनुसार जिले के कलेक्टर महोदय के द्वारा प्रधनमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत बनी सड़को पर से आठ टन से ज्यादा क्षमता वजन के वाहनों के निकलने पर पाबंदी लगा रखी है लेकिन कोई भी जिम्मेदार अधिकारी न तो कोई कार्यवाही करना चाहता है और न ही खुलकर इस मामले में अपनी राय रखना चाहता है कार्यवाही के नाम पर सब एक दूसरे की तरफ देखने लगे जाते है
1 इनका कहना है
हमारे द्वारा जो सड़के बनाई जाती है उनकी क्षमता 8 टन की होती है इससे ज्यादा वजन के वाहनों के निकलने से सड़के क्षतिग्रस्त हो जाती है कलेक्टर महोदय ने भी आदेश जारी किए है सम्बंधित अधिकारियों को कार्यवाही करना चाहिए
बी एम भट्ट सहायक प्रबन्धक प्रधानमंत्री सड़क योजना हरदा
2इनका कहना है
आपके द्वारा मामला संज्ञान में लाया गया है कार्यवाही करवाई जावेगी
अनुविभागीय अधिकारी रीता डेहरिया टिमरनी।। हरदा से सन्दीप अग्रवाल की रिपोर्ट

Translate »